गुरुवार, 30 सितंबर 2010

 
 
श्रीरामचन्द्र कृपालु भजु मन हरण भव भय दारुणं
नवकंज-लोचन कंज-मुख कर-कंज पद-कंजारुणं

कन्दर्प अगणित अमित छबि नवनील-नीरद सुन्दरं
पट पीत मानहु तड़ित रुचि शुचि नौमि जनक सुतावरं

भजु दीनबंधु दिनेश दानव-दैत्यवंश-निकंदनं
रघुनंद आनँदकंद कोशलचंद दशरथ-नंदनं

सिर मुकुट कुण्डल तिलक चारु उदारु अंग बिभूषणं
आजानुभुज शर-चाप-धर संग्राम-जित-खरदूषणं

इति वदति तुलसीदास शंकर-शेष-मुनि-मन-रंजनं।
मम हृदय-कंज निवास कुरु कामादि खलदल-गंजनं
~-~-~-~-~
एक भरोस, एक बल , एक आस , विश्वास , एक रामघन हेतु चातक तुलसीदास

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

जब आपके विचार जानने के लिए टिपण्णी बॉक्स रखा है, तो मैं कौन होता हूँ आपको रोकने और आपके लिखे को मिटाने वाला !!!!! ................ खूब जी भर कर पोस्टों से सहमती,असहमति टिपियायिये :)